Skip to main content

Posts

Showing posts with the label जिंदगी

एक दिन

नफरत और करुणा

Suvichar......zindgi ke kisi mod per ek din kruna or nafrat dono mil jate h.nafrat ne puchha,khan rehti ho karuna??kruna boli,ma me dil me hun,baap ke sneh me hun,bhai ke sath me hun,Behan ke dulaar me hun,rishton ke her USS taar me hun,jjhan prem h,ba's ahenkaar se due rehti hun,her sachhe bhagat me hun,tum se mera koi NATA nhi,mein her pal prem ki sergam bjati hun,sunti gun,sunati hun

धागे सुलझाते सुलझाते

उलझनों के धागे सुलझाते सुलझाते, कुछ बेगानों को अपना बनाते बनाते, ज़िम्मेदारियों के चूनर का घूंघट बनाते , ज़िन्दगी पूरी हो जाती है।

करवट

ऐसी है(( विचार स्नेह प्रेमचंद द्वारा))

अंतिम संस्कार

रंगमंच

सात रंग

इंद्रधनुष

मौत जब देती है दस्तक

पहेली

तूफान

कोरा कागज़

कभी धूप कभी छांव

कभी धूप कभी छांव है जिंदगी, पर जीवन के हर मोड़ पर साथ रहे तेरा। तुझ से ही सुंदर है साथी,जीवन का हर सवेरा।।

प्रेम की कसौटी

खरामा खरामा

पहेली

लम्हा लम्हा

भूल भुलैया

मोड़ पर